7 से 12 साल के बच्चों के लिए माइग्रेन की सलाह

आपका सिरदर्द कैसा होता है?

अगर आप यह पढ़ रहे है तो शायद आपको सर में दर्द रहता है। शायद आपको यह हर हफ्ते या हर महीने होता है। सिरदर्द आपका सारा किये जाने वाले प्लान को चैपट कर सकता है।

सिरदर्द और माइग्रेन के बीच में अंतर क्या है?

माइग्रेन में सर दर्द से ज्यादा तकलीफ होती है। आप बीमार हो सकते है। आपको आवाज और रोशनी से परेशानी हो सकती है। आप लेटकर सोना चाहते है। घूमना या काम करने से आपका सिरदर्द और ज्यादा गंभीर हो सकता है।

क्या आप इसे होने से रोक सकते है?

कुछ चीजे माइग्रेन को बढ़ावा देते है। इसमें आप ज्यादा से ज्यादा पानी पीये।

खाना न छोड़े

ऊर्जा के लिए खाना बहुत जरूरी है। अपना नाश्ता और दिन का खाना समय पर करे। अपनी दिनचर्या पर कायम रहे और सही खाना खाये।

व्यायाम

आप ध्यान देंगे की ज्यादा दौड़ने से आपको माइग्रेन हो जाता है। आपके रोजाना व्यायाम करने से आपके शरीर को इसकी आदत हो जाती है और आपको माइग्रेन होने के चांस कम होता है।

तनाव

स्कूल में होने से तनाव ज्यादा होता है। कई युवा बच्चों को स्कूल के सालों में माइग्रेन होता है लेकिन वह छुट्टियों में ठीक रहते है।

माइग्रेन को छुपाये न। अपने मित्र, टीचर या फिर किसी परिवार वाले से इसके बारे में बात करे ।

अपने दिनचर्या को बार बार न बदले। अगर आप एक दिन का खाना नहीं खाएंगे या फिर रात को लेट सोयेंगे तो आपको माइग्रेन की शिकायत होना संभव है।

और पढ़ें : गर्मियों में स्वस्थ खाना खाने के 3 टिप्स

Like our Facebook Page