भारत के अलावा और देशों में भी देवी को माना जाता है

भारत में नवरात्रि का पर्व पूरे दस दिनों तक मनाया जाता है और उन दस दिनों में नारी शक्ति की नौ रूपों में पूजा की जाती है। नवरात्रि हिन्दू धर्म में  देवी शक्तिरूपा माँ दुर्गा की उपासना का पर्व है, जिसे लगभग पूरे भारत में मनाया जाता है। भारत के कई प्रदेशों में देवी दुर्गा को मुख्य देवी के रूप में माना जाता है इसलिए भारत की स्त्रियों को भी देवी का स्थान दिया जाता है और उन्हें देवी संबोधित भी किया जाता है। हालांकि यह बात मशहूर हैं कि सिर्फ भारत में ही देवी की पूजा की जाती है लेकिन यह पूरी तरह सत्य नहीं है दुनिया के कई देशों में देवी की पूजा अपने अपने संस्कृति के अनुसार होती है।

इनमें कुछ करुणा की देवी मानी जाती है तो कुछ समृद्धी की, कई जगहों में देवी को प्रेम का प्रतीक मानी जाती है और कई जगहों में देवी मुक्ति की, तथा कई जगह देवी को युद्ध, न्याय, विनाश या फिर शांति की प्रतीक भी मानकर भी उनकी प्रार्थना की जाती है।

मिस्र देश में आइसिस देवी को प्राचीन मिस्र की सबसे शक्तिशाली और मुख्य देवी के रूप में माना जाता है। इस देवी का रूप कुछ ऐसे है जैसे गिद्ध के आकार का हेल्मेट पहना है। मिस्र में एक और देवी को भी माना जाता है जिनका नाम है हाथोर। इस देवी को कला संगीत, प्रेम, आकाश, संतति और आनन्द का प्रतीक माना जाता है।  हाथोर को गौ के रूप में चित्रित किया गया है इसलिए कई जगह देवी हाथोर के प्रतीक के रूप में वहां गाय की भी पूजा की जाती है।

ग्रीस में एथेना को ग्रीक संस्कृति में देवी माना जाता है। एथेना देवी को संस्कृति,, न्याय, सभ्यता, ज्ञान, गणित और कला की देवी माना जाता है। इस देवी को अक्सर सफेद पोशाक में दिखाया जाता है। एथेना से ही यूनान की राजधानी का नाम एथेंस रखा गया है।

ग्रीक देवी, एफ्रोडाइट को भी प्रेम, आंनद और इच्छाओं की देवी माना जाता है। रोमन संस्कृति में इस देवी को वीनस नाम मिला है। वीनस को सबसे सुंदर देवी माना जाता है।

जापान के शिंटो धर्म में सूर्य को एक देवी माना जाता है जिन्हें अमातेरासु (अमेतरासु) देवी कहा जाता है।  चीनी ताओवाद में देवी कुआनयिन, दया, ज्ञान और पवित्रता की देवी है। असीरियन और सुमेरियान सभ्यता अर्थात आज के इराक और सीरिया में देवी इश्तार एक प्रमुख देवी माना जाता रहा है जिनका एक और नाम ईनान्ना  भी कहते है। ये शक्ति, प्रेम और युद्ध की देवी है। इनके अलावा कई देशों में पृथ्वी, अग्नि, जल, क्रोध, प्रेम को भी देवी के रूप में पूजा जाता है।