महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के मुकुट का कोहिनूर, भारत से है

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय (Queen Elizabeth II) के ना रहने पर, उनका पुत्र प्रिंस चार्ल्स ब्रिटेन के राजा और उनकी पत्नी कैमिला महारानी बन गई। अब महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का सुप्रसिध्द राज मुकुट, रानी कैमिला पार्कर का हो गया है । यह मुकुट पिछले सत्तर सालों से महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के सर पर जगमगाता रहा था।

उसमें जड़ा सबसे बड़ा हीरा, जो मुकुट के आगे क्रॉस के पास लगा है, वो कोहिनूर हीरा है जो भारत से पाया गया है । बताया जाता है कि स्व महारानी एलिजाबेथ द्वितीय को अपने मुकुट से बड़ा लगाव था। वे उसे संसद के शुरू होने पर तथा अन्य खास अवसरों पर पहनती थी। महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का ये मुकुट सोने और प्लैटिनम का बना है और इसमें कोहिनूर के अलावा 2900 अन्य दुर्लभ कीमती रत्न जड़े है। इस शाही मुकुट में चांदी के माउंट में हीरे जड़े है, जिसके कट्स ऐसे है जो आँखों को चौंधिया दे।

मुकुट के सोने के माउंट मे रंगीन हीरे, मोती, पन्ना और  स्कॉटलैंड के सेंट एडवर्ड कन्फेसर और अलेक्जेंडर  द्वितीय के नीलमणि,  एडवर्ट द ब्लैक प्रिंस का रूबी, एलिजाबेथ प्रथम के मोती,, कुलीनन द्वितीय के हीरे, तुर्की के सुल्तान द्वारा भेंट किया गया एक बहुमूल्य हीरा भी जड़ा है। इस मुकुट का वजन करीब 1.28 किलोग्राम है। इस मुकुट को वर्ष 1937 में किंग जॉर्ज Vl के राज्याभिषेक के समय बनाया गया था और उसमें जड़ा सब से खास, विश्वप्रसिद्ध, भारतीय हीरा कोहिनूर, 105 कैरेट का है। इसे भारत के गोलकुंडा के खदानों से लगभग आठ सौ साल पहले निकाला गया था।

तब इस जगमगाते पत्थर का नाम कोहिनूर रखा गया था । अब प्रश्न उठता है कि भारत का हीरा कोहिनूर ब्रिटेन की महारानी के पास कैसे पहुँचा। बताया जाता है कि 1849 में जब ब्रिटिश उपनिवेश पंजाब में आया था तो इसे अंतिम सिख शासक दलीप सिंह ने महारानी को भेंट स्वरूप दिया था। ब्रिटेन की महारानी के इस मुकुट की कीमत का कोई सही आंकड़ा नहीं  लगाया जा सकता है लेकिन फिर भी अंदाज लगाया जा रहा है कि महारानी के इस मुकुट की कीमत 3600 करोड़ रुपये है और पूरे सेट की कीमत 4500 करोड़ रुपये हैं।

इस मुकुट के साथ एक मिथक ये है कि यह राजा के लिए दुर्भाग्य लेकर आता है और महारानियों के लिए सौभाग्य लेकर आता है। बताया जाता है कि भारत के खदान से निकले कोहिनूर हीरे को वापस लाने की कई बार भारत में मांग उठती रही है लेकिन ब्रिटेन ने हमेशा कोहिनूर को वापस करने से इंकार कर दिया।

★सुलेना मजुमदार अरोरा★