Bal Kavita: चंचल तितली

By Lotpot Kids
New Update
Butterfly cartoon image

चंचल तितली

चंचल तितली

कुसुम-कुसुम पर नाचती गाती,
रह-रह कर इठलाती तितली।

रंग-बिरंगे पंख हिलाती,
सबके मन को लुभाती तितली॥

कभी यहां-कभी वहां टहलती,
छुप-छुप कर शर्माती तितली।

नाज-नखरे खूब उठाती,
हवाओं से बतियाती तितली।।

उड़-उड़ कर फूलों को चूमती,
अपने मन हर्षाती तितली।

प्यार पाती-प्यार बांटती,
जीवन जीना सिखाती तितली।।

वन-उपवन में मौज-मनाती,
कोमल-नाजुक चंचल तितली।

लगता मानो धरती पर उतरी,
परी-लोक से प्यारी तितली।।

lotpot | lotpot-e-comics | hindi-bal-kavita | manoranjak-bal-kavita | bal-kavita | kids-poem-in-hindi | kids-poem | kids-rhymes | hindi-rhymes | hindi-rhymes-for-kids | लोटपोट | lottpott-i-konmiks | hindii-baal-kvitaa | baal-kvitaa | बच्चों की कविता

यह भी पढ़ें:- 

Bal Kavita: सन्देश

Bal Kavita: जंगल में खेल

Bal Kavita: मेंढक मामा

Bal Kavita: सुन-सुन-सुन