गोरिल्ला कितने प्रकार के होते हैं जानिए इनके बारे में रोचक जानकारी

गोरिल्ला (Gorilla) वानरों के परिवार का एक उपसमूह है। वे स्तनधारी होते हैं।

गोरिल्ला की चार प्रजातियां हैंः

 पूर्वी तराई या ग्रेवर का गोरिल्ला, पर्वत गोरिल्ला, पश्चिमी तराई गोरिल्ला और क्राॅस नदी गोरिल्ला, क्राॅस नदी और पर्वत गोरिल्ला लुप्तप्राय प्रजातियों में से एक है और अभी भी 1000 की संयुक्त मात्रा में यह घने जंगलों में रहते है।

 गोरिल्ला माँ और बच्चा गोरिल्ला लगभग एक दर्जन के परिवार समूहों में रहते हैं जिसका प्रमुख पुरुष गोरिल्ला होता है।

 यह प्रमुख पुरुष आमतौर पर एक दशक से अधिक पुराना होता है और उसकी पीठ पर सिल्की रंग के बालों के कारण इसे ‘‘सिल्वरबैक’’ कहा जाता है।

 एक दशक से कम उम्र के पुरुषों को ब्लैकबैक्स कहा जाता है क्योंकि उनके बाल सफेद नहीं हुए होते है।

 मनुष्यों के समान, गोरिल्ला माताएं 8.5 महीने की गर्भवती होती हैं और एक समय में केवल एक बच्चे को जन्म देती हैं। वे अपने बच्चे को लगभग 3 साल तक पालते हैं।

एक वयस्क नर गोरिल्ला (Gorilla) मनुष्य के आकार का होता है, लेकिन तीन गुना भारी होता है (इनका वजन 600 किलोग्राम तक होता है)

 यद्यपि गोरिल्ला को पौधे खाने वाला माना जाता है, लेकिन उनका पसंदीदा भोजन दीमक हैइन छोटे कीड़ों के प्रोटीन, खनिज और वसा उनके स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। गोरिल्ला दीमक के घोंसले को तोड़कर दावत का आनंद लेते हैं।

 जब गोरिल्ला (Gorilla) दीमक नहीं खाते हैं, तो वे अपना ज्यादातर समय फलों को खाने में लगाते हैंवे 100 से अधिक विभिन्न प्रकार के फलों के आहार पर रहते हैं।

 एक गोरिल्ला की भुजाएँ उसके पैरों की तुलना में लंबी होती हैं और वे चारों हाथों पर चलते हैं, अपने हाथों को मुट्ठी में बांधते हैं और ‘‘पैर चलाते हैं’’

गोरिल्ला दिन के दौरान सबसे अधिक सक्रिय होते हैं,  लेकिन वे काफी शर्मीले होते हैं।

रात में, वे सोने के लिए घास और पत्तियों के घोंसले बनाते हैं।

 और पढ़ें : चालाक, रहस्यमयी, मौकापरस्त तेंदुये के बारे में रोचक जानकारी