Bal Kavita: बेटी

By Lotpot Kids
New Update
cartoon image of mother and daughter

बेटी

बेटी

पृथ्वी में जन्म लेकर,
माँ का आँचल छू ना पाई।

पालनहार पिता के कभी,
गोद नहीं बैठ पाई।

माँ ने कहा पराया धन,
सास ने कहा पराई बेटी।

कभी किसी का प्यार न पाया,
क्या ऐसी ही होती बेटी ?

कितने अरमान मन में थे,
एक भी पूरे हो ना पाए।

सपनों को टूटते देखा,
सह न पाई वह बेटी।

lotpot-e-comics | hindi-bal-kavita | manoranjak-bal-kavita | hindi poem for kids | kids-rhymes | hindi-rhymes-for-kids | kids-hindi-rhymes | लोटपोट | lottpott-i-konmiks | hindii-baal-kvitaa | baal-kvitaa | bccon-kii-mnornjk-kvitaa | bccon-kii-kvitaa

यह भी पढ़ें:-

Bal Kavita: बन्दर के तेवर

Bal Kavita: भालू हुआ वकील

Bal Kavita: गणेशा मेरा बेस्ट फ्रेंड

Bal Kavita: क्रिसमस