Bal Kavita: भोली नींद

By Lotpot Kids
New Update
Kid Sleeping With Toys

भोली नींद

आती चुपके भोली नींद,
चढ़ पलकों की डोली नींद।

लाती अपने साथ सुहाने,
सपनों की भर झोली नींद।

करती दूर थकान सभी की,
खिला प्यार की गोली नींद।

रचती है उर के आंगन में,
सुख की सुधड़ रंगोली नींद।

झपकी कभी, कभी खर्राटे,
लगता करे ठिठोली नींद।

hindi-bal-kavita | kids-poem | hindi-poem | Bal Kavita Neend | poem-on-sleep | नींद पर कविता | लोटपोट | hindii-baal-kvitaa | baal-kvitaa | bccon-kii-kvitaa 

यह भी पढ़ें:-

Bal Kavita: प्यारी नानी

Bal Kavita: कंजूस का सपना

Bal Kavita: गाय

Bal Kavita: लिटिल मास्टर