Travel : आओ करें लक्षद्वीप की यात्रा | कब जाएँ यहाँ घूमने

Travel : आओ करें लक्षद्वीप की यात्रा | लक्षद्वीप का संस्कृत में मतलब हजारों द्वीप है और यह भारत के दक्षिण-पश्चिम में हिंद महासागर में स्थित एक भारतीय द्वीप-समूह है। इसकी राजधानी कवरत्ती है। लक्षद्वीप द्वीप-समूह में कुल 36 द्वीप है, जो पूरे विश्व में अपनी खूबसूरती के लिए जाने जाते है।

लक्षद्वीप द्वीप-समूह की उत्पत्ति प्राचीनकाल में हुए ज्वालामुखीय विस्फोट से निकले लावा से हुई है। यह भारत की मुख्यभूमि से लगभग 300 कि॰मी॰ दूर पश्चिम दिशा में अरब सागर में स्थित है। यह द्वीप कोच्ची से 396 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

लक्षद्वीप में द्वीपों में से केवल 7 द्वीपों पर जनजीवन है। देशी पयर्टकों को 6 द्वीपों पर जाने की अनुमति है जबकि विदेशी पयर्टकों को केवल 2 द्वीपों (अगाती व बंगाराम) पर जाने की अनुमति है।

Travel Come, visit Lakshadweep  When to go here

लक्षद्वीप में खूबसूरत दृश्य, बीच, अलग अलग प्रकार के पेड़ पौधे और साधारण जीवन देखने को मिलता है, जो प्रदूषण से बहुत दूर है। यहाँ मौजूद नारियल के पेड़, खाड़ी, सुनसान बीच और चट्टानें यहाँ पर पर्यटकों को आकर्षित करती है। यहाँ पर एडवेंचर करने के लिए लोग स्कूबा फिशिंग, डाइविंग और कयाकिंग भी करते है।

Travel Come, visit Lakshadweep  When to go here

लक्षद्वीप का तापमान 27 डिग्री से 32 डिग्री के बीच रहता है। इसका तापमान सुहावना होता है। लक्षद्वीप में सबसे गर्म महीने अप्रैल और मई है। मानसून में जहाज में पर्यटन बंद कर दिया जाता है। लक्षद्वीप जाने का सबसे उम्दा समय अक्टूबर से मार्च है। इस द्वीप पर कोच्ची से रोजाना हवाई जहाज जाता है। अगत्ती से कवरत्ती तक हेलिकाॅटर चलता है। पर्यावरण से प्यार करने वाले लोग, शांति को पसंद करने वाले और फोटो खींचने के शौकीन लोगों को यहाँ जरूर जाना चाहिए।

अक्टूबर से मई तक लक्षद्वीप में जाना बेहद सुहावना रहता है क्योंकि यहाँ पर साफ नीले समुद्र में सूरज की किरणों तले ठंडी ठंडी हवा का एहसास बेहद मजेदार होता है। हालाँकि यह द्वीप पूरे साल खुला रहता है लेकिन मानसून में इसे बंद किया जाता है और मानसून यहाँ पर मई से सितम्बर के बीच होता है।

Travel Come, visit Lakshadweep  When to go here

मानसून का असर अगत्ती और बंगरम पर नहीं पड़ता और इन द्वीपों पर कोच्ची आराम से जाया जा सकता है लेकिन मानसून में अगत्ती से बंगरम तक सिर्फ हेलिकाॅप्टर ही चलते है। लेकिन कोई भी जहाज और हेलिकाॅप्टर मिनिकाॅय, कदमत और कवरत्ती द्वीप पर मानसून की बारिश से लक्षद्वीप काफी हरा भरा लगता है और यह इसकी खूबसूरती को और भी निखार देता है।

और पढ़ें : 

नाव रेस के बारे में 10 तथ्य

मणिकरण का गर्म पानी का सोता, जाने इसके बारे में रोचक जानकारी

गुलमर्ग में घूमने वाली 5 उम्दा जगह जो आपको आएगी बेहद पसंद

Like our Facebook Page : Lotpot