Bal Kavita: बच्चे हम

By Lotpot Kids
New Update
Kids playing in ground cartoon image

बच्चे हम

बच्चे हम

नन्हें वीर निराले हम,

भारत के रखवाले हम,
आगे बढ़ते जाएँ हम।

पीछे पग न हटायें हम,
आँधी आये हमें न गम।

दुःख में बैठ न रोते हम,
जीवन व्यर्थ न खोते हम।

मुश्किल से तो लड़ते हम,
आपस में न झगड़ते हम।

सच को गले लगाते हम,
झूठे को ठुकराते हम।

जो कहते हैं करते हम,
प्रण से कभी न टरते हम।

कहने को तो बच्चे हम,
अपनी धुन के सच्चे हम।

lotpot | lotpot-e-comics | hindi-bal-kavita | bal-kavita | manoranjak-bal-kavita | kids-poem-in-hindi | hindi-poem | kids-rhymes | लोटपोट | lottpott-i-konmiks | hindii-baal-kvitaa | baal-kvitaa | हिंदी कविता

यह भी पढ़ें:- 

Bal Kavita: ज्योतिषी चूहा

Bal Kavita: सांता क्लॉज़ आया

Bal Kavita: चूहों की शैतानी

Bal Kavita: निराला पैसा