Bal Kavita: जब तक जियो

By Lotpot Kids
New Update
Man with his daughters cartoon image

जब तक जियो

जब तक जियो

नफरत नहीं किसी से करना,
प्यार सभी से करना जी।

पग-पण पर मुश्किल आयेगी,
मुश्किल से क्‍या डरना जी।

हिम्मत अपनी मेहनत अपनी,
ऊँची नीची राहों में।

पावों में मंजिल है अपनी,
ताकत अपनी बाहों में।

जब तक जियो, जियो हँस हँस कर,
एक दिन सबको मरना जी।

नये नये दुःख रोज़ मिलेंगे,
दुख में कैसा घबराना।

हमको तो राहों में अपनी,
हरदम है बढ़ते जाना।

तोड़ पत्थरों बहता,
जैसे पहाड़ का झरना जी।

सारी दुनिया घर अपना है,
एक बड़ा परिवार कहो।

जुड़े सभी जन एक डोर से,
इसे स्नेह या प्यार कहो।

जो राहों में बाधा डाले,
उस पर देंगे धरना जी।

lotpot-e-comics | hindi-bal-kavita | manoranjak-bal-kavita | kids-poem-in-hindi | kids poem | hindi-poem | kids-hindi-poems | kids-hindi-rhymes | लोटपोट | lottpott-i-konmiks | hindii-baal-kvitaa | baal-kvitaa | hindii-kvitaa

यह भी पढ़ें:-

Bal Kavita: बच्चे हम

Bal Kavita: जब चूहा बना हज्जाम

Bal Kavita: सांता क्लॉज़ आया

Bal Kavita: हाथी भैया