Bal Kavita: कितने प्यारे पापा

By Lotpot Kids
New Update
Father with Daughter cartoon image

कितने प्यारे पापा

कितने प्यारे पापा

हर बच्चों के प्यारे पापा,
होते कितने न्यारे पापा।

कभी गुस्सा कभी प्यार,
अपना खूब दिखाते पापा।

जहाँ कहीं जाते पापा,
खेल खिलौने लाते पापा

कभी-कभी हम बच्चों के,
घोड़े भी बन जाते पापा।

दफ्तर से जब आते पापा,
टॉफ़ी-बिस्कुट लाते पापा।

हमको गोद में उठा कर,
पप्पी ले मुस्काते पापा।

लोटपोट | kids poem | बाल कविता | manoranjak bal kavita | लोटपोट इ-कॉमिक्स | Hindi Poem | lotpot E-Comics | हिंदी बाल कविता | Hindi Bal Kavita

यह भी पढ़ें:- 

Bal Kavita: क्रिकेट

Bal Kavita: गर्मी का मौसम है आया

Bal Kavita: रनों की बौछारें

Bal Kavita: मेरा घोड़ा