इस कहानी से जानिए गुरू का महत्व

Hindi Kids Story: गुरू का महत्व- एक बार स्कूल का एक अध्यापक अपने शिष्यों को सूरजमुखी के बीज देकर उसका पौधा उगाने और उसकी देखभाल करने के लिए कहते है। सभी शिष्यों को यह कार्य ज्यादा पसंद नहीं आता लेकिन इनमे से एक शिष्य को ये कार्य बहुत बहुत प्यारा लगता है और वह बड़ी उत्सुकता से इन बीजो को बोता है और कई दिनों तक इनकी देखभाल करता है।

Hindi Kids Story और पढ़ें : बच्चो के लिए बाल कहानी : लड़ाई साँप और नेवले की

जब पौधा उगना शुरू हो जाता है तब लड़का अपना संयम खो देता है और अपने अध्यापक के पास जाकर कहता है क्या मै इस पौधे को उखाड़ सकता हूँ, अध्यापक अपने शिष्य से कहता है की उसे अपने पौधे को लगा रहने देना चाहिए और उसकी देखभाल करते रहना चाहिए इससे वो केवल एक सूरजमुखी से कई बीज ले पायेगा। इससे लड़का निराश हो जाता है लेकिन सूरजमुखी की देखभाल करता रहता है, फिर भी वो इसे उखाड़ने के लिए बेताब होता रहता है और अपने अध्यापक से इसे उखाड़ने की अनुमति मांगता रहता है, इसके बावजूद अध्यापक उसे संयम रखने को कहते है।

Hindi Kids Story Know the importance of Guru from this story

लेकिन जैसे ही सूरजमुखी का पहला बीज निकलता है लड़का उस पौधे को तोड़ देता है ताकि उसे खा सके लेकिन पौधा अभी हरा ही होता है और बीज अभी पका हुआ नहीं होता, इसलिए वह उसे नहीं खा पाता। जिससे लड़का पौधे को तबाह कर देता है। इस प्रकार जिस सूरजमुखी के पौधे के लिए वह इतनी मेहनत करता है और उसकी काफी समय तक देखभाल करता है अपने गुरु का कहा ना मानने पर उसमे असफल रहता है।

Hindi Kids Story और पढ़ें : बाल कहानी : मेहनती लकड़हारा

बाकी सब शिष्य अपने अध्यापक की कही बात के अनुसार सूरजमुखी का पौधा उगाते है। अपने साथियों के विशाल सूरजमुखी के पौधे देखकर वह बहुत क्रोधित होता है और अपने अध्यापक से कहता है, इस कार्य के लिए सबसे उत्सुक मै ही था लेकिन आपकी कही बात ना मानकर मेरी सारी मेहनत और समय की बर्बादी हुई। अतः अब से मै कार्य में हमेशा संयम रखूँगा और आपकी कही बात का पालन करूँगा।

Hindi Kids Story Know the importance of Guru from this story

ज्ञान होना एक बात है और उसे व्यवहार में लाना एक कला है जिसे उसे कहा जाता है। जिसे ये कला आती है उसके लिए जिन्दगी में सभी मुश्किल काम आसान लगने लगते है और सफलता उनके कदमो में होती है। ज्ञान अनुभवों, कामयाबियां, असफलताओ से ग्रहण किया जाता है इसलिए ज्ञान कही से भी मिले उसे ग्रहण कर लेना चाहिए। जो आपको अच्छा ज्ञान दे उस गुरु का स्थान ऊँचा है, उसकी महत्वता उसके ज्ञान से पहचानी जानी चाहिए ना की उसकी व्यक्तिगत कामयाबियो से तुलना करनी चाहिए। ज्ञान को ग्रहण कर उसका इस्तेमाल करना आना चाहिए, तभी आप सफलताऐं प्राप्त कर पायेंगे।

Facebook Page